भाषा परिवर्तन
(Change language)

कवि ने संपादक को बताया..


Rating     3/ 5 based on 4 reviews
Viewed 150 times

कवि ने संपादक को बताया - मैंने यह कविताएं भावना के बहाव में आकर लिख दी हैं | आप कृपा करके इनका वर्गीकरण कर दीजिए कि ये

साहित्य की किस धारा में आती हैं |

संपादक ने पढकर कहा - यह सब कविताएं गंगा की धारा के लिए उपयुक्त हैं |



Rate This Joke:      
Excellent
Very Good
Good
Average
Bad
Share On:-
Share to Twitter Share to Facebook
Advertisements: